Sad shayari,जिसके नसीब मे हों ज़माने की ठोकरें


Sad Shayari
Sad Shayari


Jiske Naseeb Mein Hon Zamane Ki Thhokarein,

Uss BadNaseeb Se Na Sahaaron Ki Baat Kar.



जिसके नसीब मे हों ज़माने की ठोकरें,
उस बदनसीब से ना सहारों की बात कर।
Previous Post Next Post